Search engine optimization(seo) in hindi

Search engine optimization(seo) :- यह एक ऐसी तकनीक है जिससे हम अपने वेबपजे को सर्च मे टॉप (top) मे लाते है सर्च इंजिन optimization मे keyword type के जरिये no 1 position पर लाते है 

जैसे keyword,metadata,etc| 

Search engine marketing google adwords:- Search engine marketing google adwords के साथ हम अपने वेबसाइट  या पोस्ट को प्रथम स्थान पर लाते है

Search engine marketing free marketing और paid marketing भी होता है इससे हम अपने पजे को सर्च इंजिन मे top पर करते है,गूगल अड्वोर्ड्स को गूगल कंपनी ने ads मार्केट  करने के लिए बनाया गया है  

SEM-Search-engine-marketing.jpg

Search Engine में Ads Show होने वाले Results को ही SEM कहते है 

google adwords के  कुछ Ads है ।

1.PPC- Pay Per Click
2.PPC- Pay Per Call
4.CPC- Cost Per Click
5. CPM (cost-per-thousand impressions)
6.Paid Search Advertising

Social Media Marketing:- Social Media Marketing, social sites पर हम अपनी blog, Brand या product को promote करने के लिए जो भी strategy apply करते है उसे social media marketing कहते है,

smm.jpg

Social Media Marketing एक Internet Marketing का एक form है जहाँ हम ऐसे हजारों content create और share करते ह Social Media पर के वल अपने या किसी दुसरे company के Marketing और Branding Goals को achieve करने के लिए . इस social media marketing म ऐसे कई activities शामिल है जैसे की text और image updates को post करना, videos को post करना और ऐसे ही अलग content जिससे की audience engage हों. ये companies को एक रास्ता बनाकर के देती है की कैसे आप अपने नए customers और पुराने के साथ engage रहे |

  • Facebook:- Facebook World की सबसे popular social network site है Facebook. जहा पर anytime आपको million users active मिलेंगे. और अगर आप शिर्फ़ India जो कि second largest online market हे यहा पर भी आपको monthly 241 million + active users मिलेंगे.

और Facebook पर marketing के लिए आपकोFacebook Tips & Tricks के बारे में जानना होगा. और अपनी Brand की एक page create करना होगा फिर आप इसपर free और paid जैसे भी अपनी blog या product की promotion कर सकते हो,और Advertising on Facebook के जरिये आप लाखो visitors या Customers Recived कर सकते हो.

facebook.jpg
  • LinkedIn :- LikedIn भी एक professional network site है. और इसपर आपको शिर्फ़ professional लोग ही ज्यादा मिलेंगे. तो इस social media site पर भी आप अपनी content को promote करके अपनी business की Promotion कर सकते है.
LinkedIn.png
  • YouTube:- Digital marketing के लिए के लिए YouTube भी एक बहुत ही बढ़िया social media site है. इसपर आप अपनी blog को promote करने के लिए video create करे और videos पर अपनी products के बारे में बताए. जिसे आप बहुत से लोगो को attract कर सकते हो. और अपनी blog पर traffic भी increase कर सकते हो.
youtube.jpg

social Media Marketing आपके Business में कैसे लाभ देता है ?

Social media marketing से आप अपने बहुत से Marketing लक्ष को पा सकते हैं जो की कुछ इस प्रकार हैं-

  1. जब आप social media पर रहते है तो इससे आपकी Website traffic बढ़ सकती है।
  2. इससे आप दूसरों के साथ बातचीत कर अपने relation को और मजबूत कर सकते हैं जिससे आपके ब्रांड को एक अलग पहेचन मिलता है।
  3. इससे आपकी Brand Awareness बढ़ सकती है और ज्यादा से ज्यादा लोग आपके बारे में जानेंगे जिसके द्वारा भी आपके business में लाभ होगा।
  4. आपकी एक अलग Brand identity बनेगी और आपके ब्रांड पर लोग भरोशा करने लगेंगे।
  5. इससे आप अपने Audience के साथ बेहतर interact कर सकते हैं जो की आपके Brand के value के लिए अच्छा है।

Display Advertising – Display Advertising का प्रयोग करके किसी  प्रोडक्ट का Image, Video, GIF किसी Online Platform पर Display करते हैं.उसे Display Advertising कहते है 

 display.pngExample : यदि कोई Advertiser हमारे Website पर Advertise करना चाहता है तो हम उसके Image / Video को Site के किसी पार्ट में अपने Readers को दिखायेंगे. Display Advertising सिर्फ Awareness के लिए किया जाता है.

Contextual advertisement:- Contextual advertisement वेबसाइट 

या अन्य मीडिया पर प्रदर्शित होने वाले विज्ञापनों के लिए लक्षित(Targeted) विज्ञापन का एक रूप है

जैसे किसी मीडिया या वैबसाइट पर व्यक्ति जो भी देखना या सर्च करना चाहता है उससे related ads दिखाये जाते है 

Behavioral advertisement :-Behavioral advertisement का प्रयोग किस प्रकार का page या post को लिखा गया है उस प्रकार का ads दिखाया जाता है 

Targeted advertisement :- Targeted advertisement किसी टारगेट व्यक्ति को advertisement दिखाने के लिए Targeted advertisement का प्रयोग किया जाता है यह advertisement कितने समय तथा कब तक सीमित रहेगा |

, Content Marketing & Blogging:- जसके मायम से Valuable content को बनाया जाता है और उसे share भी कया जाता है जससे क ये customers को अपनी और आकषत कर सके और उह repeated buyer म बदल सक. आप जो भी content share करते ह वो आपके उन चीज़ से काफ समानता रखता हो जो आप बेचते ह, या हम ये भी कह सकते ह क आप लोग को अछ जानकारी देते ह, उह शत करते ह ताक वो आपके वषय म जान सक, आपको पसंद कर सक और आपके ऊपर ववास कर सक जससे वो आपके साथ आगे business कर सके 

जैसे 1. Infographics. ये मुयतः लबे, verticla graphics होते ह जसम Statistics, charts, graphs और सरे जानकारी को लखा जाता है. इनम Images के साथ उनम सबंधत जानकरी भी दान क जाती है. आपके marketing के लए Infographics बत effective बन सकते ह अगर उह सही तरीके से बना जाये और उह सही तरीके से Share कया जाये. इन Infographics को आप खुद भी बना सकते ह या कसी सरे professional के द्वारा भी बना सकते ह.

2. Webpages. Normal Webpages और एक Content Marketing Webpages म काफ अंतर है. यूंक यद आप कसी Webpages को अछ तरीके से लख और उह सही तरीके से SEO optimized कर तब इससे आप बत से लोग को अपनी और आकषत कर सकते ह. यूंक ये आसानी से Rank हो जायेगा जो क आपके Brand के लए बत ही अछा है.

3. Podcasts. Content Marketing म Podcasts का भी काफ महव है. ये आपके Contents को लोग के सामने अछे तरीके से दशत करता है. जससे यादा से यादा लोग आपके वषय म जान सक. इससे आपके Brand क publicity भी हो जाती है.

4. Videos. कहते ह क Text क तुलना म Videos बत ही आकषक होते ह और इह आसानी से share भी कर सकते ह. Videos म customers आपके content के वषय म अछे तरीके से जानते ह और उसे देखते ह जससे उनम आपके content को लेकर ववास उपन होता है. इससे आपके Brand क value बढ़ जाती है जो क आपके Branding Value के लए बत महवपूण है 

5. Books या Text. Text एक बत ही महवपूण तरीका है content marketing के लए. यहाँ Marketers अछे content लखकर लोग को अपनी तरफ आकषत कर सकते ह. वैसे ही आप Books का इतमाल एक Marketing tool के हसाब से भी कर सकते ह. इससे आपका Branding Value भी बढ़ता है और लोग का आपके ऊपर ववास भी बढ़ जाता है.

Lead Generation : Lead Generation एक marketing term है जिसे  की  describe किया जाता है एक connection बनाया जाता है एक potential customer या client के साथ. ज्यादातर Online Advertising का मुख्य  लक्ष्य  होता है Leads generate करना, जो की बाद मे  एक company या organization के लए sales या subscriptions generate कर सके 

ऐसी leads generate  किया जाता है Internet म उसे Online lead generation कहा जाता है.  जाता है ads को run कर, जसके लए service जैसे क Google AdWords या Bing Ads या फर directly purchasing कया जाता है advertising space को सरे websites पर.

Advertisers चुन सकते ह run करना या तो CPC (cost per click) या CPA (cost per action) ads, जसम दोन ही leads generate करते ह. वैसे तो CPA और CPL (cost per lead) को असर इतमाल कया जाता है interchangeably, वह CPL specifically measure करता है lead generations, न क aggregate clicks या sales को

 Marketing Offer – Attractive / Relevant Offer

:- , Landing Page – Offer’s details with form, Conversion Page – Thank you page, Email Marketing, Video Marketing, Responsive Design, Google Analytics

4. Search Engine Optimization      (10 Periods) 

What is SEO:- यह एक ऐसी तकनीक है जिससे हम अपने वेबपजे को सर्च मे टॉप (top) मे लाते है,seo एक process है जिसका use कर के हम अपने website को organic ranking increase कर सकते है search engines मे |

Types of SEO in Hindi

SEO दो प्रकार के होते है 

1. On Page SEO 

2. Off Page SEO

1. On-Page SEO :- On page SEO का काम  website को ठीक तरह से design करना जो SEO friendly हो.

SEO के rule को follow कर अपने website मे  template का इतेमाल करना. अछे contents लिखना और उनमे अछे keywords का इतेमाल करना जो search engine मे सबसे ज्यादा खोजी जाती है.

Keywords का इतेमाल page मे सही जगह करना जैसे Title, Meta description, content म keyword का इतेमाल करना इससे Google को जानने मे  आसानी होती है कि आपका content किसके ऊपर लिखा गया है और  आपके website को Google page पर rank करने मे  मदद करता है जिससे आपके blog क traffic बढती है.

On Page SEO कैसे करे:-

 यहाँ पर हम कुछ ऐसे techniques के बारे मे जानेगे जिसकी मदद से हम अपने Blog या Website को On Page SEO अछे तरीके से कर सकगे.

1. Website Speed :-Website speed एक बहुत ही महवपूण कड़ी है SEO के कणी से. एक survey से पाया गया है कि कि सी भी Visitor ज्यादा से ज्यादा 5 से 6 seconds ही कसी blog या website पर रहता है.

अगर वो इसी समय के भीतर नही खुला तब वो उसे छोड़ दुसरे ममे Migrate हो जाता है. और ये बात Google के लिए भी लागु होती है अगर आपका Blog जल्दी नही  खुला तब एक negative signal Google के पास पँहुच जाता है कि ये blog उतनी अछ नही  है या ये ज्यादा fast नही  है. तो जितना हो सके अपनी साईट कि  रफ़्तार  अच्छी  रख.

यहाँ मने कुछ important tips दीए है जिससे आप अपनी blog या website क speed fast कर सकते है  

Simple और attractive theme का इतमाल कर ज्यादा plugins का इतेमाल न कर Image का size कम-से-कम रख W3 Total cache और WP super cache plugins का इतमाल करे 

2. Website क Navigation अपनी blog या website मे  इधर उधर जाना आसान होना चाहए जिससे कोइ भी visitor और Google को

एक पेज से दुसरे पेज मे जाने मे कोई परेशानी ना हो|

3. Title Tag

 अपनी website मे  टाइटल टैग बत ही अछा बनाए जिससे कोइ भी visitor उसे पढ़े तो उसे जल्दी  से जल्दी आपके टाइटल पर Click कर दे इससे आपका CTR भी increase होगा.

कैसे बनाय अछे Title Tag : – अपने Title मे  65 word से ज्यादा  Words का इतमाल न करे  Google 65 words के बाद google searches मे  title tag show नही करता है.

4. Post का URL कैसे लिख हमेशा अपने post का url आप जितना simple और छोटा हो सके उतना रख.

5. Internal Link ये अपने Post को rank करने के लए एक बेहतरीन तरीका है. इससे आप अपने Related Pages को एक सरे के साथ Interlinking कर सकते है . इससे आपके सभी Interlinked pages आसानी से rank हो सकते है 

6. Alt Tag अपने Website के post म images का इस्तेमाल जरूर करे क्यो images से आप बत सारा traffic पा सकते ह इसलए image को इतमाल करते समय उसम ALT TAG लगाना ना भूले.

7. Content, Heading और keyword Content के बारे मे  जैसे क हम सभी जानते है कि ये बात ही महवपूण कड़ी है. क्योकि  Content को King भी कहा जाता है और जतनी अछ आपका  Content होगी उतने अछे site क valuation होगी. इसलए कम से कम 800 words से यादा words के Content लिखे 

Heading:  अपने Article के Headings इससे SEO पर काफ impact पड़ता है. Article का Title तो H1 होता है और इसके बाद के Sub headings को आप H2, H3 इयाद से नामांकत कर सकते है  इसके साथ आप focus keyword का जरूर इस्तेमाल करे.

Keyword : आप Article लिखते समय LSI Keyword का इस्तेमाल करे . इससे आप लोग के Searches को आसानी से link कर सकते है  इसके साथ important keywords को BOLD कर जससे क Google और Visitors को ये पता चले क ये जरी Keywords ह और उनका ध्यान इसके तरफ आकर्षीत होगा |

2. Off-Page SEO

Off page SEO का सारा काम blog के बाहर होता है. Off page SEO मे हमे अपने blog का promotion करना होता है जैसे बहुत से popular blog म जाकर उनके article पर comment करना और अपने website का link submit करना इसे हम backlink कहते है . Backlink से website को बहुत फायेदा होता है.

Social networking site जैसे Facebook, twitter, Quora पर अपने website का attractive page बनाइये और अपने followers बढाइये इससे आपके website मे ज्यादा  visitors बढ़ने के chances होते है .

बड़े बड़े blogs मे जो बहुत  ही मसहुर है उनके blog पर guest post submit करीए इससे उनके blog पे आने वाले visitors आपको जानने लगगे और आपके website पर traffic आना शुरु  हो जायेगा.

1.  Search Engine Submission: अपनी वेबसाइट को सही तरीके से सारे सच इंजन मे submit करना चाहिए 

2.  Bookmarking: अपनी blog या website के page और post को Bookmarking वाली वेबसाइट म submit करना चाहिए

3.Directory Submission : अपनी blog या website को popular high PR वाली Directory म submit करना चाहिए 

4.Social Media: अपनी blog या website का page और Social Media पर Profile बनाना चाहिए और अपनी वेबसाइट का link Ad कर दो like फेसबुक, गूगल+, twitter, LinkedIn

5.Classified Submission: Free Classified Website म जाकर अपनी वेबसाइट का  मे advertise करना चाहिए

6.  Q & A site: आप question and answer वाली वेबसाइट म जाकर कोई भी question कर सकते हो और अपनी साईट का लक लगा सकते है 

7.  Blog Commenting : अपने Blog से Related लॉग पर जाकर उनके पोस्ट मे कमेंट कर सकते है  और अपनी website का link लगा सकते हो (link वही लगाना चाहए जहाँ website लिखा होता है)

8.  Pin : आप अपनी Website के image को pinterest पर पोट कर सकते ह यह एक बहुत अछा तरीका है traffic increase करने का.

9.  Guest Post: आप अपनी वेबसाइट से Related लॉग पर जाकर Guest Post कर सकते है  यह सबसे अछा वे है जहाँ से आप do-follow link ले सकते ह और वो भी बलकुल सही तरीके से

Why SEO:- क्योकि 90 % से ज्यादा लोग जब गूगल जैसे सर्च इंजन पर कुछ search  करते है तो सिर्फ first  page पर आयी हुई websites  को ही visit  करतें  है।  बहुत कम लोग ही second page  तक जाते  हैं।

  • हमारी website  या blog पर traffic  increase करने  के लिये SEO करना जरुरी है।
  • SEO करके हम बिना  Google को पैसे दिये  top page पर आ सकते है।
  • आज कल किसी भी चीज के बारे में जानना हो तो लोग सबसे पहले google  पर search  करते हैं।

How Search Engine works:- आप search करते हो “what is seo” तो Search engine पहले से ही crawl और index की हुई Ranking list को आपके सामने ले आता है। जिसे search engine के bots और spider लगातार 24 hours crawl और index करके अपनी Ranking list बना लेते है। और जैसे ही आप कुछ सर्च करते है तो वह आपको search engine Result Page(SERP) पर दिखाई देती है।

search engine तीन step में काम करता है।

1. Crawling
2. Indexing
3. Ranking

Crawling :-Crawling  एक websites के सारे डाटा को अधिग्रहण  करना या एक websites क पूरी जानकारी को हासील करना. इस process मे website को scan करना, page का title या  keywords की जानकारी, content मे  कितने keywords है , images और कौन कौन से page मे link है  website के साथ. लेकन आजकल के Modern crawler मे सायद तक एक webpage के पुरे cache को ही copy कर लेते ह. इसके साथ साथ पेज layout कैसा है, Advertise कहाँ कहाँ है , link कहाँ दिये गए है  ये भी Store होता है

01.png

2. Indexing:-  indexing एक process है  जहाँ Crawl के दौरान जो भी डाटा मिलता है उन सभी डाटा को database मे place करना है. example आपके पास बोहत सारी books है . आप उन books के author name, books name, books के हर page को read करना Crawling है लेकन इन सब details को Listing करना ही Indexing है 

00.png

00.png

Essential SEO guidelines for website owner, designer, blogger and content writer :

 Keyword Research :- Keyword Research एक ऐसा Process है जिसकी Help से हम सर्च इंजन पे सब से ज़्यादा Search किये जाने वाले Term को Search करने के लिए Researching करते है ताकि इन Popular Search Terms को हम अपने Content में Add करके Search Engine में High-Rank Gain कर सके|

Backlink:  इसके inlink या simply link भी कहा जाता है, ये एक hyperlink होता है किसी दुसरे website मे जो क आपके Website के तरफ इशारा करता है. Backlinks seo के नज़रए से बत ही महवपूण होता है, क्योकि ये किसी भी Webpage कि Search Ranking को directly influence करता है.

 PageRank: PageRank एक algorithm है जसे क Google इस्तेमाल करता है ये अनुमान लगाने लिए की Web मे कोन कोन सी Relative important pages स्थित है 

Anchor text:  किसी भी backlink का Anchor Text के प्र कार का text होता है जो क clickable होता है. यदी आपके Anchor Text मे आपका Keyword मौजुद है तब तो ये आपको SEO कि द्रीष्टि से भी काफी  मदद करेगा. 

Title Tag:  Title Tag मुख्य रुप से किसी भी Web Page का Title होता है और ये बहुत ही महवपूण factor है Google’s Search Algorithm के लिए. 

Meta Tags:  Title Tag के जैसे ही Meta Tag का इतमाल से Search Engines को ये पता चलता है कि  Pages मे content मे स्थित है. 

Search Algorithm:  Google’s search algorithm क मदद से   हम ये पता कर सकते है  कि  Internet मे  कोन सी Web Pages relevant है . लगभग 200 algorithms काम करती ह Google के Search Algorithm मे . 

SERP:  इसके full form  Search Engine Results Page. ये basically उही pages को show करता है जो क Google Search Engines के हसाब से Relevant है Keyword Density:  ये Keyword Density से ये पता चलता है कि  कितनी बार कोई भी Keyword article मे  कितनी बार इतमाल कि  गयी है . Keyword Density SEO कि द्रीष्टि से काफी  महवपूण है. 

Keyword Stuffing:  जैसे क मने पहले ही कहा क Keyword Density SEO की द्रीष्टि से काफ महवपूण है लेकन अगर कोई Keyword को जरूरत  से ज्यादा  इस्तेमाल किया जाये तो उसे Keyword Stuffing कहते है . ये Negative SEO कहलाता है  क्योकि  इससे आपके Blog पर ख़राब असर पड़ता है.

 Robots.txt:  ये ज्यादा  कुछ नही बस एक File होती है जिसे कि  Domain के Root मे  रखा जाता है. इसके इतमाल से search बोट्स को ये सूचत किया जाता है कि  Website की  Structure कैसी है|

Google Trends:- Google Trend एक टूल है जो समय के साथ होने वाले हर बदलाव को रिकार्ड करता है और उसे ग्राफ के रूप मे हमे दिखाता है ये टूल हमे ये भी बताता है की कौन से keyword कितनी बार लोगो ने और कौन कौन से लोकेशन से सर्च किया है इससे हुमे ये जानने मे मदत मिलता है उस keyword को इस्तेमाल करने से हमे फायदा होगा या नहीं |

Google Trend Tool कै से Use करे?

Step1: सबसे पहले आपको https://trends.google.com/trends की वेबसाइट पर जाना है.

Step2: अब आपके सामने Google Trends वेबसाइट ओपन हो जाएगी।

1. ऊपर search box  मे अपने keywords को type करने के बाद आपको पता चल जायेगा की वो कीवड इस समय कितना सच हो रहा है.

 2. All Catagories पर क्लिक करके आप अपनी catagories के हिसाब से भी Google search trend के बारे म पता कर सकते हो. 

3. आप अपने Country के हिसाब से भी trends keywords पता कर सकते हो.

Step3: मने यहां पर Catagories or Country के हिसाब से चेक किया है..

g0.png

Step4: अब आप देख सकते हो की India मे  Science or Technology मे  Search Trend मे  क्या  चल रहा है. g1.png

Step5: आप Stories पर क्लिक  करके उसके बारे मे और भी बहुत  से डिटेल पता कर सकते हो. जैसे: top articles, interest, top queries or more

Local SEO :-

local.jpg

ये दो शब्दो से मिलकर बना  है Local + SEO. Local यानि की किसी local audience को ध्यान मे  रखकर किया जाने वाला SEO को Local SEO कहा जाता है.

यह एक ऐसे technique है जिसम की  आपकी  website या blog को ख़ास तोर से optimize किया जाता है जिससे की search engine पर बेहतर rank करे एक local audience के लिए 

वैसे एक website की  मदद से आप पुरे internet को target कर सकते ह, वह अगर आपको एक paticular locality को ही target करना है तब इसके लए आपको Local Seo का इतमाल करना होगा.

 यहाँ पर आप केवल अपने ही किसी local area को ही target करते है  और उसी हसाब से आपके site को seo optimized करते है  तब इस प्रकार के SEO को “local SEO” कहा जाता है.

SEO-friendly Domain Name:-जब भी आप domain खरीदे तो सबसे पहले top level domain लेना चाहिए google इसे ज्यादा महत्व देता है किसी भी डोमेन के लेवल को right to left की ओर से समझा जाता है सर्च इंजिन मे टॉप लेवल डोमेन का ज्यादा महत्व है और ये seo friendly होते है 

Leave a Reply

Your email address will not be published.