E-Commerce Payment Payment Gateway, Modes of Electronic Payment, Threats & protections for ecommerce payment system

    E-Commerce Payment  E-Commerce Payment Payment Gateway, Modes of Electronic Payment, Threats & protections for ecommerce payment system

E-Commerce Payment :- E-Commerce मे खरीदे गए services(सर्विसेस) के लिए पेमेंट इंटरनेट के माध्यम से किया जाता है इलेक्ट्रॉनिक्स पेमेंट कहते है ,यह एक तरह का फाइनेशियल एक्सचेंज है जो बिक्रेता और खरीदार के बीच मे ऑनलाइन स्थापित किया जाता है/

“ऑनलाइन लेनदेन के लिए इलेक्ट्रॉनिक भुगतान की स्वीकृति की सुविधा देती है। इलेक्ट्रॉनिक डेटा इंटरचेंज (EDI) के एक उपसंपादक के रूप में भी जाना जाता है, इंटरनेट आधारित खरीदारी और बैंकिंग के व्यापक उपयोग के कारण ई-कॉमर्स भुगतान प्रणाली तेजी से लोकप्रिय हो गई है“

Payment Gateway: पेमेंट गेटवे एक ऐसी सर्विस है जिसके जरिये किसी भी E-Commerce Business में ग्राहक द्वारा ऑनलाइन स्टोर को क्रेडिट कार्ड या डेविड कार्ड से भुगतान किया जाता है| जिसमें ग्राहक द्वारा ऑनलाइन भेजा गया पैसा सीधे स्टोर मालिक के बैंक खाते में पहुँच जाता है,payment gateway एक सर्विस है जिसके जरिये पैसे को मैनेज किया जाता है विभिन्न प्रकार की कम्पनी पेमेंट गेटवे बनाया है 

जैसे :- ccavenue,paytm,paypal,payumoney,etc

Modes of Electronic Payment:-

  • क्रेडिट कार्ड (Credit Card):- क्रेडिट कार्ड का उपयोग इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट करने के लिए प्रयोग किया जाता है जब कोई कस्‍टमर क्रेडिट कार्ड के माध्यम से प्रॉडक्‍ट खरीदता है, तो क्रेडिट कार्ड जारीकर्ता बैंक ग्राहक की तरफ से पेमेंट करता है और कस्‍टमर के पास एक निश्चित समय अवधि होती है जिसके बाद वह क्रेडिट कार्ड बिल का पेमेंट कर सकता है।
  • डेबिट कार्ड (Debit card):- क्रेडिट कार्ड की तरह डेबिट कार्ड, एक छोटा प्लास्टिक कार्ड है जिसमें बैंक अकाउंट नंबर के साथ मैप किए गए युनिक नंबर होते हैं। बैंक से डेबिट कार्ड प्राप्त करने से पहले बैंक अकाउंट होना आवश्यक है, डेबिट कार्ड का उपयोग इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट करने के लिए प्रयोग किया जाता है ।
  • ई-वॉलेट (E Wallet):- ई-वॉलेट एक प्रीपेड अकाउंट है जो कस्‍टमर को एक सुरक्षित वातावरण में कई क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और बैंक अकाउंट नंबर स्टोर करने की अनुमति देता है।
  • नेटबैंकिंग (Net banking):- netbanking बैंक द्वारा एक id होता है जो उपभोकता को पेमेंट करने के लिए दिया जाता है यह id बैंक मे अकाउंट होने पर ही दिया जाता है अपनी नेट बैंकिंग आईडी और पिन डालना होता हैं यह कस्‍टमर के बैंक में पहले से मौजूद पैसे का पेमेंट करने के डेबिट कार्ड के समान मेथड का उपयोग करता है। नेट बैंकिंग के लिए यूजर को पेमेंट उद्देश्यों के लिए कार्ड रखने की आवश्यकता नहीं होती है लेकिन यूजर को नेट बैंकिंग फीचर के लिए अपने बैंक के साथ रजिस्‍ट्रेशन करने की आवश्यकता होती है। खरीद को पूरा करते समय कस्‍टमर को सिर्फ अपनी नेट बैंकिंग आईडी और पिन डालना होता हैं।
  • ऑफलाइन (offline payment):- जो पेमेंट हम फ़िज़िकल(हाथ से हाथ ) रूप से पेमेंट करते है उसे ऑफलाइन पेमेंट कहते है /

 Threats & protections for ecommerce payment system (ई-कॉमर्स भुगतान प्रणाली के लिए खतरा और सुरक्षा) :-

Threats for ecommerce payment system:- विभिन्न प्रकार के ई कॉमर्स खतरे है कुछ आकस्मिक और कुछ मानसिक त्रुटि के कारण है डेटा का दुरुपयोग,धन की चोरी  ,हैकिंंग ,क्रेडिट कार्ड धोखाधड़ि और असुरक्षित सेवाए है और भी ई कॉमर्स खतरे है

protections for ecommerce payment system:- ई कॉमर्स protections के लिए डिजिटल स्टीर्फ़िकेट (SSL)प्रमाणपत्र होना चाहिए जो विश्वसनीय  थर्ड पार्टी कंपनी द्वारा जारी किया जाता है

एन्क्रिप्शन:- यह एक सामान्य टेक्स्ट को एंकोडेड टेक्स्ट मे बदलने की प्रक्रिया है जिसे मैसेज भेजने  या प्राप्त करने व्यक्ति के अलावा कोई और नहीं पढ़ सकता है 

Leave a Reply

Your email address will not be published.