रजिस्टर आर्गेनाईजेशन (register organisation ) in hindi

रजिस्टर आर्गेनाईजेशन (register organisation ) cpu में मेन मेमोरी और कैश मेमोरी से ऊपर रजिस्टर का उपयोग किया जाता है cpu में रजिस्टर दो प्रकार के होते है

1 प्रोग्रामर विज़िबल रजिस्टर

2 कण्ट्रोल एंड स्टेटस रजिस्टर

प्रोग्रामर विज़िबल रजिस्टर

प्रोग्रामर विज़िबल रजिस्टर cpu द्वारा एग्जीक्यूट  होने वाले मशीन भाषा के प्रोग्राम द्वारा रेफेर किया जाता है प्रोग्रामर विज़िबल रजिस्टर निम्नलिखित प्रकार के होते है

1 genral purpose register

सामान्य उद्देश्य रजिस्टर में opecode के ऑपरेंड को सुरक्षित किया जाता है कुछ रजिस्टर फ्लोटिंग पॉइंट नंबर के लिए प्रयोग किया जाता है

2 data  register

डेटा रजिस्टर का प्रयोग डेटा सुरक्षित  करने के लिए करते है

three address  register

एड्रेस रजिस्टर का उपयोग एड्रेस को सुरक्षित  करने के लिए प्रयोग किया जाता है इंडेक्स रजिस्टर और स्टैक पॉइंटर रजिस्टर के प्रकार है

कण्ट्रोल एंड स्टेटस रजिस्टर

कण्ट्रोल एंड स्टेटस रजिस्टर का प्रयोग ऑपरेशन को नियन्त्रण करने के लिए cpu में प्रयोग किया जाता है

1 प्रोग्राम काउंटर

प्रोग्राम काउंटर में एग्जीक्यूट होने वाले subsequent instruction का एड्रेस स्टोर करता है

2 instruction रजिस्टर

इस रजिस्टर में एग्जीक्यूट किये जाने वाले निर्देश् को  सुरक्षित किया जाता है

three मेमोरी एड्रेस रजिस्टर

मेमोरी एड्रेस रजिस्टर  में learn और write किये जाने वाले देता को एड्रेस को रखा जाता है

four प्रोग्राम स्टेटस वर्ड

प्रोग्राम स्टेटस वर्ड  एक रजिस्टर अथवा अधिक रजिस्टर का समूह है जो स्टेटस की सूचना को धारण करता है इसमे widespread feield ,flags,comdition code होते है

Signal (S): अंतिम अर्थमेटिक ऑपरेशन के परिणाम के चिन्ह को सुरक्षित किया जाता है

Zero (Z ): जब परिणाम zero होता है तो सेट 1 हो जाता है

Carry (C ): परिणाम के अनुशार carry योग में अथवा borrow में प्राप्त होता  है,तो सेट कर दिया जाता है

parity (P )

Leave a Reply

Your email address will not be published.