IoT Protocols in hindi

Internet of Things  Protocols in hindi

IoT Protocols –

IoT protocols की मदद से ही internet में IoT devices और cloud पर आधारित servers के मध्य communication हो पाता है. नीचे आपको इसका चित्र दिया गया है जिसमें सभी IoT protocols दिखाए गये हैं:-

IoT protocols in hindi

Link Layer (लिंक लेयर) –

यह layer यह निर्धारित करती है कि network में data को physically कैसे भेजा जाता है. यह लेयर यह भी निर्धारित करती है कि हार्डवेयर डिवाइस के द्वारा packets को कैसे code और signal किया जाता है. इसके अंतर्गत निम्नलिखित protocols का प्रयोग किया जाता है:-

Network Layer (नेटवर्क लेयर) –

यह लेयर source network से destination network तक IP datagrams को भेजने के लिए जिम्मेदार रहती है. इस लेयर का कार्य host addressing और packet routing का होता है. हम IPv4 और IPv6 का प्रयोग host को identify करने के लिए करते हैं. इसमें प्रयोग किये जाने वाले protocols निम्नलिखित हैं:-

  • IPv4
  • IPv6
  • 6LoWPAN

Transport Layer (ट्रांसपोर्ट लेयर) –

इस लेयर का कार्य error control, segmentation, flow control और congestion control का होता है. इस layer के अंदर निम्नलिखित protocols शामिल रहते हैं:-

Application Layer (एप्लीकेशन लेयर) –

यह लेयर user को कम्युनिकेशन उपलब्ध कराती है; जैसे:- वेब ब्राउज़र, ई-मेल, तथा अन्य applications के द्वारा। इस layer में निम्नलिखित protocols प्रयोग किये जाते हैं.

    • HTTPS
    • CoAP
    • WebSocket
    • MQTT
    • XMPP
    • DDS
    • AMQP

IoT प्रोटोकॉल (IOT Protocols) प्रोटोकॉल–सरल शब्दों में हम कह सकते हैं कि एक प्रोटोकॉल संचार और सूचना के आदान-प्रदान के लिए नियमों और दिशानिर्देशों का एक समूह है। ___एक IoT प्रोटोकॉल एक संरचित और सार्थक तरीके से डेटा का आदान-प्रदान करने के लिए हार्डवेयर को सक्षम करने में मदद करता है।। सेंसर (sensor), डिवाइस, गेटवे, सर्वर और उपयोगकर्ता अनुप्रयोगों के बीच सहभागिता आवश्यक विशेषता है जो इंटरनेट ऑफ थिंग्स बनाती है। लेकिन क्या है जो बात करने और इंटरेक्ट करने के लिए इस स्मार्ट डिवाइस के सक्षम बनाता है, वो है-IoT प्रोटोकॉल।
नीचे दिए गए चार प्रमुख IoT प्रोटोकॉल हैं

1. Constrained Application Protocol (COAP)COAP Constrained विवश उपकरणों के लिए एक
इंटरने, उपयोगिता प्रोटोकॉल है। यह छोटे उपकरणों के लिए डिज़ाइन किया गया था ताकि कम bandwidth उपलब्धता वाले Constrained नेटवर्क के माध्यम से IoT में शामिल हो सके। Constrained अनुप्रयोग प्रोटोकॉल मुख्य रूप से डिवाइस से डिवाइस (D2D) संचार के लिए और विशेष रूप से उन Ior एप्लिकेशन के लिए उपयोग किया जाता है जो HTTP प्रोटोकॉल पर आधारित है।
हल्के संचार (Light weight communication) के लिए COAP में UDP प्रोटोकॉल का उपयोग किया जाता है।

2. संदेश कतार टेलीमेट्री ट्रांसपोर्ट प्रोटोकॉल (Message Queue Telemetry Transport Protocol MQTT) – MQTT IoT परियोजनाओं में उपयोग किए जाने वाले सबसे आम प्रोटोकॉल में से एक है। यह एक खुली OASIS और ISO मानक (ISO/IEC PRE20922) हल्की प्रक्रिया है, पब्लिश सब्सक्राइब नेटवर्क प्रोटोकॉल जो छोटे उपकरणों जैसे कि कम पावर सेंसर (sensor) या मोबाइल डिवाइस जैसे फोन, एम्बेडेड कम्प्यूटर या माइक्रोकंट्रोलर के बीच संदेश परिवहन करता है।
MQTT आईबीएम के एंडी स्टैनफोर्ड-क्लार्क और Arcom के Arlen Nipper की सहायता से विकसित एक मैसेजिंग प्रोटोकॉल है।

MOTT ब्रोकर MOTT प्रोटोकॉल में ब्रोकर पोस्ट ऑफिस के रूप में काम करता है जो Topic’ नामक विषय रेखा का उपयोग करता है और उस विषय के आधार पर कई क्लाइंट को संदेश प्रकाशित करता है। MOTT प्राप्तकर्ता के पते का उपयोग कभी नहीं करते है। MOTT में कई एक संबंध मौजूद हैं। कई ग्राहक संदेश प्राप्त कर सकते हैं।

3 MOTT ब्रोकर का लाभ1. कुशल सूचना वितरण। 2. Scalability की वृद्धि 3, नेटवर्क बैंडविड्थ की खपत में कमी 1 रिमोट सेंसिंग के लिए अच्छा है 5. उपलब्ध बंडविड्थ को अधिकतम करता है। अशिम संदेशा कतार प्रोटोकॉल (Advance Message Quering Protocols)-AMOP का fun torm है-Advanced Message Queuing Protocol और यह एक मानक अनुप्रयोग परत प्रोटोकॉल (Standard application layer protocol) है। AMOP मेसेजिंग में निर्माता, broker और उपभोक्ता शामिल होते है।
निर्माता संदेश का उत्पादन करता है उपभोक्ता उन्हें उठाता है और उन्हें broker की भूमिका प्रदान करता है। यह संदेश सही उपभोक्ता तक पहुंचेगा, ऐसा करने के लिए broker उपयोग करता है
fafahe (Exchanges) कतार (Queues)